Latest Press Release:

विधानसभा सचिव को सामान्य प्रोटोकॉल भी मालूम नही: समीर उरांव

भाजपा प्रदेश महामंत्री एवम सांसद समीर उरांव ने प्रदेश कार्यालय में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि आज प्रदेश की जनता अपमानित महसूस कर रही है। उन्होंने कहा कि संसद या विधानसभा परिसर में जो प्रतिमाएं या तस्वीर लगी होती है उसका सम्मान सरकार और सदन का नैतिक दायित्व है।
यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि आज श्रद्धेय अटल जी की दूसरी पुण्यतिथि है।झारखंड विधानसभा परिसर में उनकी आदमकद प्रतिमा स्थापित है। परंतु उनके प्रतिमा पर सभा सचिवालय या सरकार के द्वारा कोई श्रद्धान्जलि अर्पित नही की गई।
श्री उरांव ने कहा कि हद तो तब हो गई जब भाजपा के प्रदेश पदाधिकारियों ने विधानसभा परिसर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करना चाहा तो पहले घुसने से रोका गया जबकि मैं स्वयं पूर्व सदस्य हूँ वर्तमान में राज्य सभा सदस्य हूँ, मेरे साथ फूल माला लिये हुए प्रदेश महामंत्री श्री आदित्य साहू,प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक ,प्रदेश कार्यालय मंत्री हेमंत दास एवम अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे। कहा कि मैंने विधानसभा अध्यक्ष से बात करने की कोशिश की जिनका मोबाइल ऑफ था। विधानसभा सचिव से हुई बात ने मुझे काफी आहत किया। उनकी बातचीत की शैली ने एक जिम्मेवार पदाधिकारी की सोच और क्षमता को कटघरे में खड़ा कर दिया है। उनके ध्यान में यह भी नही था कि आज अटल जी की पुण्यतिथि भी है।अपनी जिम्मेवारियों से मुंह मोड़ते हुए उल्टा उन्होंने हम सब को ही याद न दिलाने का आरोप मढ़ दिया।
श्री उरांव ने कहा कि सरकार महापुरूषो को याद करने में भी भेदभाव कर रही है। हेमंत सरकार महापुरूषों को भी दलीय सीमा में बांध रही है।
श्री उरांव ने विधानसभा सचिव पर कार्रवाई की मांग करते हुए कहा कि हेमंत सरकार राज्य की जनता से माफी मांगें।